UPBIL/2018/70352

तो क्या सुनील पासी की हत्या की गयी थी ?


सुनील पासी के परिजन 
आजमगढ़ जिले के फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के खानजहांपर मोड़ के पास 28 अगस्त 2019 की रात पुलिस मुठभेड़ में मुख्तार गिरोह के दो शार्प शूटर घायल हो गए थे। इस मुठभेड़ के दौरान बदमाशों की फायरिंग में फूलपुर थाने के दो सिपाही भी जख्मी हो गए। सभी का जिला अस्पताल में इलाज कराया गया। बदमाशों के पास से एक पिस्टल, एक तमंचा, कारतूस और कार बरामद हुई। बदमाशों पर आजमगढ़ पुलिस ने 25 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था।
एसपी ग्रामीण नरेंद्र प्रताप सिंह के मुताबिक घायल बदमाश सुनील पासी जहानागंज थाने के अभिलाषपुर गांव और दूसरा परशुराम यादव महराजगंज थाना क्षेत्र का बताया गया। घायल सिपाही विश्वनाथ और सूर्यभान था। एसपी ने बताया कि एसओ पवई मंगलवार की शाम चेकिंग कर रहे थे।
तभी एक ऑल्टो कार गुजरी। रोकने पर भी कार नहीं रोकी गई। खानजहापुर मोड़ पर घेराबंदी की गई। इस दौरान बदमाश फायरिंग करने लगे। दो सिपाहियों के हाथ में गोली लगी। जवाबी कार्रवाई में बदमाश घायल हो गए। दोनों को पकड़ लिया गया। तीसरा फरार हो गया। जिसका नाम पंकज निषाद बताया गया। 
पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए बदमाश मुख्तार गिरोह के थे। एसपी ने बताया कि इनके जरिए पूर्वांचल में हुई घटनाओं का खुलासा होने वाला था। एसपी त्रिवेणी सिंह की तरफ से पुलिस टीम के लिए 25 हजार पुरस्कार की घोषणा की गई।
रिहाई मंच की टीम 
इस घटना की पेचिदगी से अभी पुलिस महकमे को निजात नही मिली है क्योंकि  उत्तर प्रदेश की राजधनी लखनऊ मे बैठे जनहित कार्यकर्ता इस घटना की वास्तविकता और पुलिस के बयान को एक दूसरे के पूरक नही मानते है। तो इस मामले की क्या है वास्तविकता रिहाईमंच रिपोर्ट इस प्रकार है।
आज़मगढ़ पुलिस ने दावा किया कि 28 अगस्त 2019 की सुबह फूलपुर थाना क्षेत्र के खानजहा पुलिया के पास हुई मुठभेड़ में सुनील पासी और परशुराम यादव को पैरों में गोली लगने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया जबकि उनके साथ मौजूद तीसरा बदमाश पंकज निषाद भागने में सफल रहा। हिरासत के दौरान दो सितंबर को सुनील पासी की मौत हो गई। रिहाई मंच  प्रतिनिधिमंडल ने कथित मुठभेड़ की सच्चाई जानने के लिए सुनील पासी के परिजनों से मुलाकात की
सुनील पासी के पिता का देहान्त हो चुका है। तीन बेटियों और दो बेटों का पिता सुनील पासी दो भाइयों में दूसरे नम्बर पर था। उसका सबसे छोटा बेटा गोली लगने के दो दिन बाद पैदा हुआ। उसके बड़े भाई सुभाष पासी ने बताया कि 28 अगस्त की सुबह सूचना मिली कि पुलिस एनकाउंटर में सुनील को पैरों में गोली लगी है तो वह परिवार और गांव के लोगों के साथ जिला सदर अस्पताल गए। वहां उन्हें बताया गया कि सुनील को वाराणसी ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया है। वहां से वह लोग वाराणसी पहुंचे जहां पता चला कि गोली निकालकर उसे आज़मगढ़ वापस भेज दिया गया है। आज़मगढ़ में मालूम हुआ कि उसका चालान हो गया और उसे जेल भेज दिया गया। बहुत प्रयास के बाद केवल उसकी पत्नी सीमा को मुलाकात की अनुमति मिली लेकिन उसे दूर से दिखाकर वापस कर दिया गया, मिलने नहीं दिया गया।
सुभाष ने बताया कि सुनील पासी सूअरों का कारोबार करता था। उसने गांव के पास और बिलरियागंज के पास चुन्हैवां में दुकाने भी खोल रखी थीं। घटना वाले दिन परशुराम यादव और पंकज निषाद सुअरों की खरीद के लिए आल्टो कार से जौनपुर के बड़गूजर नामक स्थान पर गए थे। बड़गूजर सुअरों के कारोबार का बड़ा केंद्र है। तीनों वापस लौट रहे थे कि रात में करीब दो बजे जौनपुर की नहर के पास वाली रेलवे क्रॉसिंग पर पुलिस वालों ने उन्हें रोककर अपनी गाड़ी में बैठा लिया। रास्ते में उन्होंने पंकज निषाद को गाड़ी से उतार लिया और फूलपुर-मैगना बाज़ार के बीच स्थित खंजहां पुलिया के पास सुनील पासी और परशुराम के पैरों में बोरी बांधकर गोली मार दी।
गांव के ही बालचंद्र सरोज ने बताया कि पुलिस 13 जून को फूलपुर के कपड़ा व्यवसायी प्रदीप बरनवाल की हत्या का आरोप सुनील पासी पर लगा रही है जो सरासर झूठ है। 13 जून को गांव में शादी थी और पूरे समय सुनील उस शादी में मौजूद रहा। तो एक व्यक्ति एक साथ दो स्थानों पर कैसे रह सकता है। सुभाष ने भी बताया कि तीसरे बदमाश के भाग जाने की थ्योरी भी पूरी तरह गलत है। तीनों को एक साथ उठाया गया था, पंकज निषाद को अलग किया गया और फिर सुनील के एक पैर में दो तथा दूसरे पैर में एक गोली मारी गई जबकि परशुराम के एक पैर में गोली मारी गई और पंकज को जेल भेज दिया गया। इस सच्चाई को छुपाया गया।
सुनील की पत्नी सीमा ने बताया कि सुनील को श्याम बाबू पासी और मुख्तार अंसारी का शूटर बताकर हत्या को जायज़ ठहराने का प्रयास किया जा रहा है। सुनील पर 2015 में साजिश के तहत राजपूत जाति के वकील और शिक्षा मफिया ने फर्जी मुकदमें दर्ज करवाए थे। गांव के बाहर मुख्य सड़क पर वह वाहन धुलाई का सर्विसिंग सेंटर चलाता था और वकील साहब उस जगह को हथियाना चाहते थे। इसे हटाने को लेकर विवाद भी हुआ था। इसी क्रम में उस पर छिनैती और आर्म्स एक्ट में फर्जी मुकदमा लगवाया गया था। उसे जेल भी जाना पड़ा था। जेल से छूटने के बाद उसने सूअरों को कारोबार शुरू कर दिया था।
सुनील पिछली बार प्रधानी का चुनाव लड़ा था और कुछ ही वोटों के अंतर से दूसरे स्थान पर रहा। पुलिस ने साज़िशन कपड़ा व्यवसायी की हत्या से उसका नाम जोड़ा, इनाम घोषित किया और कोई एक सप्ताह  बाद गोली मार दी। सुनील के बारे में सूचना ग्राम प्रधान को पुलिस ने दो सितंबर की रात में करीब दो बजे ही दे दी थी लेकिन उन्होंने परिवार को नहीं बताया। सुबह सात बजे पुलिस ने सूचना दी कि सुनील की हालत गंभीर है और उसे सदर अस्पताल भेज दिया गया है। जब परिजन अस्पताल पहुंचे तो सुनील मर चुका था और उसके मुंह से निकला झाग दिखाई दे रहा था। उनका शक है कि सुनील को जेल में ज़हर देकर मारा गया है। सुनील के भाई ने बताया कि सुनील का मोबाइल नम्बर 9648056561 था। अगर मोबाइल की जांच की जाए तो तथ्य सामने सकते हैं।
गांव के एक बुजुर्ग ने कहा कि अखंड प्रताप सिंह पर हत्या समेत कई आपराधिक मुकदमें हैं। वह वांटेड हैं लेकिन आज़ाद घूम रहे हैं और किसी पुलिस वाले की हिम्मत नहीं कि उन पर हाथ डाल दे। गरीब और वंचित जातियों के लोगों के खून की कोई कीमत नहीं है। पुलिस का हर अभियान इन्हीं के खिलाफ़ होता है। उत्तर प्रदेश में अपराधियों के खिलाफ योगी आदित्यनाथ कीथोंक दो नीति को निचले स्तर पर लोग इसी तरह देखते हैं।


Share this

Related Posts

Previous
Next Post »