UPBIL/2018/70352

डी ए वी पी जी कॉलेज लखनऊ का तीन दिवसीय वार्षिक उत्सव अभिव्यक्ति -2019 का आयोजन

डी ए वी पी जी कॉलेज लखनऊ का तीन दिवसीय वार्षिक उत्सव अभिव्यक्ति -2019  दिनॅाक 12 फरवरी 2019 से  आयोजित हो रहा है जो 14 फरवरी 2019 को समाप्त होगा। इस कार्यक्रम को यह महाविद्यालय पिछले कई वर्षों से अभिव्यक्ति शीर्षक नाम से आयोजित करता आ रहा है इस वर्ष अभिव्यक्त-2019 का तीसरे दिन सांस्कृतिक समारोह दिनॅाक 14 फरवरी 2019 को प्रातः 1030 बजे प्रारम्भ होगा। पुरस्कार वितरण सत्र दिन में 03 बजे शुरू होगा। जिसकी मुख्य अतिथि मान0 प्रो0 रीता बहुगणा जोशीए महिला तथा बाल कल्याण एवं पर्यटन मंत्री उ0प्र0 है। 
आयोजित अन्तरमहाविद्यालयीय बौद्धिक तथा सांस्कृतिक प्रतियोगिता अभिव्यक्ति-ंउचय 2019 के दूसरे दिन तत्क्षणवाक् नुक्कड़ नाटक स्लोगन मेंहदी निबन्ध एकल गान तथा समूह गान प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।
नुक्कड़ नाटक में विभिन्न महाविद्यालयों की 08 टीमों ने ज्वलंत सामाजिक मुद्दों की सजीव प्रस्तुति की। गुरूनानक गर्ल्स डिग्री कालेज ने अन्धविश्वास और बेरोजगारी तथा डी ए वी पी जी कालेज ने ट्रान्सजेन्डर व बच्चे और अभिभावक-ंउचय जेनरेशन गैपके मुद्दे पर अपने अभिनय को प्रस्तुत किया।
जेएनपीजी कालेज के दल ने मानव तस्करी विषय को सजीव प्रस्तुत किया। कृष्णा देवी गर्ल्स कालेज की टीम ने मित्रता एवं आतंकवाद विषय पर अपनी प्रस्तुती दी। एपीसेन कालेज की टीम ने बेटी बचाओ-ंउचयबेटी प-सजयाओ तथा बीएसएनवी कालेज की टीम ने युवा भारत समर्थ भारत विषय की मनमोहक प्रस्तुती दी।
वाह्य निर्णायक नाटककार ऋषि श्रीवास्तव के अनुसार विद्यार्थियों ने जैसे सवाल उठाए उनमें बहुत खास सवाल आज की सच्चाई से जुड़े हैं।
लड़कियों को घर से निकलने पर पग-ंउचयपग पर विभेदीकरण का सामना करना पड़ रहा है। लड़कियों की स्वतंत्रता का समर्थन करने वाले आज हिंसा का शिकार हो रहे हैं। नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिता में गुरूनानक कालेज ने प्रथम डी ए वी पी जी कालेज ने द्वितीय तथा एपीसेन कालेज ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।
आर्थिक आधार पर आरक्षण की प्रासंगिकता पर आयोजित निबन्ध प्रतियोगिता में 18 प्रतिभागियों ने भागीदारी की। विभिन्न महाविद्यालयों के विद्यार्थियों ने व्यापकता के अनुरूप आर्थिक राजनीतिक तथा सामाजिक पहलुओं को रेखांकित करते हुये अपने विचार लिपिबद्ध किये। निबंध प्रतियोगिता में लखनऊ विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग की अनामिका सिंह ने प्रथम स्थान प्राप्त किया।
डी ए वी पी जी कालेज के राकेश सोनकर ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया तथा करामत हुसैन गर्ल्स पीजी कालेज की पुष्पलता सोनकर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।
 आलस्य पर प्रहार करते हुए चुटकले और मुहावरे भी बने। वर्तमान परिवेश में मेंहदी कला के साथ-ंउचयसाथ
रोजगार कौशल के रूप में भी स्थापित होती जा रही है। 16 छात्राओं ने प्रतियोगिता में प्रकृति चित्रण थीम पर अपनी कला का प्रदर्शन किया। इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान गुरूनानक कालेज की मोहिनी कन्नौजिया ने प्राप्त किया। द्वितीय स्थान डी ए वी पी जी कालेज की वैशाली ने प्राप्त किया। तृतीय स्थान मुमताज कालेज की सादिया उमम को प्राप्त हुआ। तत्क्षणवाक् प्रतियोगिता में डी ए वी पी जी कालेज की कृति सरन ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। संस्कृत पाठशाला कालेज की प्राची
अग्रवाल ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। इग्नू के वरूण मिश्रा को तृतीय स्थान प्राप्त हुआ।
महिला सशक्तीकरण तथा पर्यावरण संरक्षण विषय पर स्लोगन प्रतियोगिता में डी ए वी पी जीकालेज के मो खालिद ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। हिमांशु पाल ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया तथा जेएनपीजी कालेज के अर्पित गौतम ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।
एकलगान प्रतियोगिता में विभिन्न महाविद्यालयों के 15 प्रतिभागियों ने अपनी प्रस्तुति दी। डी ए वी पी जी कालेज के निशान्त शर्मा ने ऐसा देश है मेरा गाने पर प्रस्तुति देकर प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया। एपीसेन कालेज की कु ज्योति ने पिया बावरी गाना गाकर द्वितीय पुरस्कार तथा एपीसेन कालेज की ही कु दिव्या ने पिया मोरा मिलेया की प्रस्तुति पर तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया।
समूहगान प्रतियोगिता में महाविद्यालयों की 6 टीमों ने भाग लिया। एपीसेन कालेज ने छाप तिलक मोहे लीने...... सुफियाना कलाम प्रस्तुत किया।
जेएनपीजी कालेज ने तेरी रहमतों का दरिया कव्वाली प्रस्तुत की। डी ए वी पी जी कालेज के छात्र-ंउचयछात्राओं ने तारे जम़ी पर की मोहक प्रस्तुति दी। कृष्णा देवी गर्ल्स कालेज ने देशप्रेम का गीत प्रस्तुत किया वहीं बीएसएनवी ने दमादम मस्त कलन्दर की
शानदार प्रस्तुति दी।





Share this

Related Posts

Previous
Next Post »