UPBIL/2018/70352

कर्मचारियों द्वारा पुरानी पेंशन की माँग को लेकर दो दिवसीय हड़ताल

क्षितिजकांत; लखनऊ  
राज्य कर्मचारी महासंघ उत्तर प्रदेश  केंद्रीय संगठनो औद्योगिक फेडरशनो एवं कर्मचारी संगठनों के आह्वान पर दो दिवसीय हड़ताल का आयोजन किया।  इस हड़ताल में सरकार की जनविरोधी , मज़दूरविरोधी नीतियों के खिलाफ  देश के  केंद्रीय संगठन ,बीमा, रक्षा, रेलवे एवं राज्य सरकार कर्मचारियों ने भाग लिया।  यह संयुक्तमंच का आंदोलन  पिछले कई वर्ष से  मेहनतकश जनता की मांगो को लेकर किया जा रहा है। यह आंदोलन 8 व् 9  जनवरी 2019 को जारी रहेगा।    
प्रमुख मांग
1 . न्यूनतम वेतन  कानून में संशोधन  करते हुए  इसे सबके लिए लागू किया जाय।  सबके लिए न्यूनतम वेतन रूपए 18000 प्रतिमाह  से काम न हो  एवं इसे मूलसूचकांक से जोड़ा जय 
स्थाई / बारह मास के कामो के लिए ठेकेदारी प्रथा बंद हो।  ठेका मज़दूरों को  उद्योग / संस्थानों में  उनके जैसा काम  करने वाले  नियमित मज़दूरों  के बराबर वेतन एवं  सभी भत्ते व् लाभ दिए जाय।  
सबके लिए पेंशन सुनिश्चित की जाय. ईपीएफओ द्वारा सभी को  एक हजार की जगह  काम से काम छह हजार पेंशन दी  जाय।  
4 केंद्र एवं राज्य सरकार  कर्मचारियों की पुराणी पेंशन नीति बहाल जाय।  राष्ट्रीय  वेतन नीति  बनाते हुए  केंद्रीय  व् राज्य कर्मचरियो  को एक सामान वेतन  भत्ते दिए  जाय।  आउटसोर्सिंग / संविदा  मजदूरों को नियमित किया जाय।  
 इस प्रकार से 12 सूत्रीय  मांग पर राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार ,बैंक, एलआईसी विभिन्न विभाग के  तमाम संगठनो के कर्मचारी धरना प्रदर्शन को लेकर हरताल पर देखे गए।    

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »