UPBIL/2018/70352

उत्तर प्रदेश सरकार शिक्षा मित्रों की भर्ती का कट ऑफ घटाए : यू पी कांग्रेस


प्रदीप सिंह, प्रवक्ता उत्तर प्रदेश कांग्रेस, ने आज जारी अपने एक बयान में कहा है कि भाजपा सरकार ने अपनी पूर्व की नीति पर चलते हुए प्रदेश के युवाओं को फिर से धोखा दिया। 
उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा की शिक्षक पदों पर पूर्व की हुई भर्ती में जहां कट-आफ 45 और 40 नम्बर था जिसे स्वयं मुख्यमंत्री ने घटाकर 35 से 30 नम्बर किया और जो मा0 उच्च न्यायालय में चुनौती के बाद पुनः 45 और 40 नम्बर के आधार पर परिणाम घोषित किया गया -- इस 68 हजार की भर्ती में मात्र 40 हजार अभ्यर्थी ही पास हो पाये थे !
इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में हिन्दुस्तान कान्क्लेव लखनऊ में बोलते हुए राज्य के मुख्यमंत्री श्री आदित्यनाथ जी ने 01 सितम्बर 2018 को कहा कि राज्य सरकार के पास नौकरियों की भरमार है, किन्तु हमारे राज्य में युवा काबिल ही नहीं हैं; एवं अपने वक्तव्य की पुष्टि में उन्होने घोषित रिजल्ट का हवाला दिया।
 सिंह ने आगे कहा की आज मात्र तीन महीने बाद ही कल सम्पन्न हुए 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा जिसमें 4 लाख 15 हजार अभ्यर्थी शामिल हुए हैं मुख्यमंत्री जी ने अपने पूर्व के कट आफ को बढ़ाते हुए 65 और 60 नम्बर कर दिया एक आश्चर्य है। 
इससे सरकार के खुद के घोषित फैसले पर सवाल खड़ा होता है कि क्या इन तीन महीनों में हमारे प्रदेश के युवाओं में योग्यता की क्षमता 20 प्रतिशत ऊपर चली गयी या उस समय मुख्यमंत्री जी का यह कहना कि हमारे उ0प्र0 के युवाओं में प्रतिभा की कमी है प्रदेश के युवाओं का अपमान था?
प्रवक्ता प्रदीप सिंह ने जारी बयान में आगे कहा कि शिक्षा मित्रों के साथ नई कट आफ लिस्ट घोषित होने के बाद सबसे बड़ा धोखा यह है कि माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद शिक्षा मित्रों को लगातार दो भर्तियों में मौका देना था और यह भर्ती उनके आखिरी मौके के रूप में थी। 
राज्य सरकार द्वारा निश्चित था या है कि शिक्षा मित्रों को प्रतिवर्ष सेवा का ढाई अंक और अधिकतम 25 अंक भारांक के रूप में दिया जायेगा। अभीतक यह उम्मीद थी कि इस शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा देने वाले शिक्षा मित्रों को 25 अंकों का भारांक मिलने के बाद नियुक्ति मिलनी तय है, लेकिन कट आफ जारी होने के बाद अब ऐसा नहीं होगा। 
लिखित परीक्षा में सफल होने वाले परीक्षार्थी ही शिक्षक भर्ती के पात्र होंगे। सरकार का यह आदेश माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णय की अवमानना है। इसके साथ ही साथ शिक्षा मित्रों के साथ अब तक का सबसे बड़ा धोखा है।
कांग्रेस पार्टी शिक्षा मित्रों के साथ पूरी हमदर्दी रखती है और हर लड़ाई में उनके साथ खड़ी रहेगी तथा सरकार से मांग करती है कि भर्ती का कट आफ पूर्व की भर्ती के अनुसार 45 और 40 प्रतिशत ही रखा जाये।
 

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »