UPBIL/2018/70352

बीजेपी ने कहा, 'सपा भ्रष्ट' तो सपा ने कहा, 'बीजेपी ने 5 हज़ार करोड़ सिर्फ प्रचार में खर्च क़िये'


  बीजेपी शासन काल में प्रदेश के किसान की हालत बदतर: उत्तर प्रदेश कांग्रेस

भारतीय जनता पार्टी  की  ओर  से  आये  बयान  में कहा  है कि सीबीआइ जांच में पूर्ववर्ती सपा सरकार के दौरान अवैध खनन के जरिए भ्रष्टाचार की परतें अब खुलने लगी हैं। शनिवार को सीबीआइ ने जिस तरह से सपा सरकार के दौरान प्रमुख पदों पर तैनात आइएएस अधिकारी समेत खनन विभाग के कर्मचारियों, ठेकेदारों के ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई से पूर्ववर्ती मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की कार्यप्रणाली भी कठघरे में आ गई है।
पार्टी प्रदेश मुख्यालय पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए प्रदेश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि श्री अखिलेश यादव को खुद के ऊपर उठ रहे सवालों का जवाब देना चाहिए। आखिर उन्होंने अपने कार्यकाल में अधिकारियों, नेताओं को अवैध खनन की छूट क्यों दे रखी थी
प्रदेश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन ने आगे कहा कि श्री यादव को आभास है कि उनके कार्यकाल के दौरान यूपी में भ्रष्टाचार के मामले भाजपा सरकार में जरूर खुलेंगे क्योंकि यह सरकार जीरो टॉलरेंस की नीति पर कार्य कर रही है। 
उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मसले पर सीधे तौर पर खुद को घिरता देख श्री अखिलेश यादव बसपा से बेमेल गठबंधन करने को बेताब हो गए। श्री यादव ने अपने पांच साल के कार्यकाल में शायद ही कोई कार्यक्रम या आयोजन रहा हो जिसमें उन्होंने बसपा के शासनकाल में फैले भ्रष्टाचार का जिक्र न किया हो। 
प्रदेश प्रवक्ता ने आगे कहा कि इस तरह से सपा और बसपा का गठबंधन भाजपा सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति के खिलाफ भ्रष्टाचारियों का गठबंधन है।
 उधर  उत्तर प्रदेश  कांग्रेस ने  योगी सरकार पर आरोप लगाया कि प्रदेश के किसान किन हालातों से गुजर रहे हैं इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि आगरा का किसान प्रदीप शर्मा 19 हजार किलो आलू बेंचकर महज 490 रूपया पाता है और वह इस रकम को प्रधानमंत्री को भेज देता है।
किसान कर्ज में इतना डूबा हुआ है कि वह अपनी जमीन बेंचने तक मजबूर है और प्रशासन कोई मदद नहीं कर रहा है।
यहाँ यह ध्यान देने योग्य है कि योगी सरकार ने 15 अरब रूपये  की निधि किसानो के ऋण मोचन की व्यवस्था पिछले वर्ष 2018 के माह दिसम्बर  में की है जिसे इसी वित्तीय वर्ष में किसानो पर खर्च करना है किन्तु कैसे ? यह  अन्वेषण का विषय है.   
0प्र0 कांग्रेस कमेटी की प्रवक्ता प्रियंका गुप्ता ने आज जारी अपने बयान में आगे कहा कि गन्ना किसान योगी सरकार में दोहरी मार झेल रहे हैं, एक तरफ किसानों का गन्ना मूल्य के बकाये का भुगतान नहीं हो रहा है और मुख्यमंत्री जी ने 30 नवम्बर 2018 तक किसानों को गन्ना भुगतान किये जाने का वादा किया था और अभी तक नहीं हो पाया है, जिसकी वजह से किसान कृषि कार्य में उपयोग किये गये विद्युत के मूल्य का भुगतान नहीं कर पा रहे हैं जिसकी वजह से किसानों के बकाये बिजली मूल्य को लेकर विद्युत विभाग उनके बिजली का कनेक्शन काट रहा है और मुकदमें दर्ज कर रिकवरी की नोटिसें भेज रहा है जिससे किसान त्राहि-त्राहि कर रहा हैं। 
 श्रीमती गुप्ता ने कहा कि जबसे प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है चाहे वह बुन्देखण्ड के किसान हों, पूर्वांचल के किसान हों या पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हों, सरकार की किसान विरोधी नीतियों के चलते लगातार आन्दोलित और आक्रोशित हैं। सरकार जहां गन्ना किसानों को उनके बकाये मूल्य का भुगतान दिलाने में विफल साबित हुई है वहीं आलू किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य नहीं मिल रहा है जिसके चलते किसान त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।
 सीबीआई छापे के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने जारी अपने वक्तव्य में कहा है कि जैसे-जैसे लोकसभा के चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं भाजपा विपक्ष के नेताओं को बदनाम करने के अभियान में जुट गई है। वह साजिश और फरेब के सहारे लोगों को भ्रमित करना चाहती है। लेकिन अब परिस्थितियां बदल रही हैं, सबके बारे में सब जानते हैं। भाजपा भी समझ रही है कि इस चुनाव में उसका सफाया होना तय है। जनता ने भी तय कर लिया है कि भाजपा की वादाखिलाफी और धोखाधड़ी को देखते हुए इस बार उसकी खैर नहीं। 
       श्री यादव आज पार्टी मुख्यालय, लखनऊ में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा भाजपा हमारे गठबंधन की खबरों से बुरी तरह परेशान हैं। आखिर भाजपा ने भी तो 40 दलों से गठबंधन किया है। इसी तरह सीबीआई का भी हौआ खड़ा किया जा रहा है। लोकसभा चुनाव में सीबीआई और गठबंधन का क्या सम्बंध है? भाजपा को हटाना है तो सीबीआई क्या करेगी? भाजपा के पास सीबीआई है तो हमारे पास गठबंधन है। सीबीआई के हर सवाल का जवाब देने के लिए मैं तैयार हॅू। वोट सीबीआई तो डालती नहीं, वोट तो किसान, श्रमिक, गरीब, नौजवान, महिलायें, व्यापारी और छोटे कारोबारी डालते हैं। 
       श्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपाराज में बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। मंहगाई और भ्रष्टाचार रूकने का नाम नहीं ले रहा है। महिलाओं, बच्चियांे का जीवन असुरक्षित है। व्यापारी वर्ग परेशान है। भाजपाराज में सबका उत्पीड़न हो रहा है। नौजवानों के सपने टूट गए हैं। विकास अवरूद्ध है। किसान कर्ज में डूबे हैं। कानून व्यवस्था ध्वस्त है। भाजपा ने पांच हजार करोड़ रूपए सिर्फ प्रचार पर खर्च कर दिए। जनता की गाढ़ी कमाई का यह निर्लज्ज दुरूपयोग भाजपा कर रही है।
  

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »