UPBIL/2018/70352

बुलन्दशहर में आक्रोशित भीड़ द्वारा पुलिस इंस्पेक्टर एवं युवक की हत्या का कांग्रेस द्वारा राज्य की राजधानी में विरोध


सुचित बाजपेई; लखनऊ  
उत्तर प्रदेश की आदित्यनाथ योगी सरकार का शासन-प्रशासन पर कोई प्रभाव या नियंत्रण नहीं बन पा रहा है; परिणामस्वरूप पूरी व्यवस्था जंगलराज में परिवर्तित होती जा रही है ऐसे में न तो आम आदमी का जीवन सुरक्षित रह गया है और न ही सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालने वालों का जीवन ही  सुरक्षित है।

 0प्रकांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता बृजेन्द्र कुमार सिंह ने आज जारी बयान में कहा कि कल बुलन्दशहर के चिगरावटी में जिस प्रकार आक्रोशित भीड़ ने सुनियोजित तरीके से कर्तव्यनिष्ठ जांबाज पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और एक प्रतिभाशाली युवक सुमित कुमार की हत्या कर दीइस बात का प्रमाण है कि भारतीय जनता पार्टी और उसके संगठन जिस अराजक समाज की स्थापना करना चाहते थे वह अपनी चरम पर है।
इसका सबसे जीता जागता सबूत प्रशासन द्वारा प्राथमिक जांच में ही सामने आया जब इस जघन्य घटना को अंजाम देने वाले सारे के सारे लोग विश्व हिन्दू परिषदबजरंग दलभाजपा युवा मोर्चा जैसे संगठनों से जुड़े हुए लोग निकले जो अलग-अलग स्तर पर उक्त संगठनों के महत्वपूर्ण पदस्थ लोग हैं।
यह इस बात का प्रमाण है कि भाजपा और संघ एवं उसके अनुषांगिक संगठन हमारे सहिष्णु उत्तर प्रदेश को अराजकता की प्रयोगशाला बनाना चाहते हैंजो किसी भी सभ्य समाज के लिए स्वीकार नहीं है। 
 इसी प्रकार लखनऊ में श्री प्रत्युषमणि त्रिपाठी की हत्या भी प्रशासन की अक्षमता का नतीजा है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इतनी बड़ी घटना घटने के बाद कल से आज तक हमारे माननीय मुख्यमंत्री जी एक भी निन्दा शब्द नहीं बोल सके और वह अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों में ही व्यस्त रहे। 
प्रवक्ता ने आगे कहा कि जब भी कोई सरकार भीड़ तन्त्र को प्रश्रय देती है तो अराजक समाजअराजक राज्य में परिवर्तित हो जाता है। राज्य के मुख्यमंत्री श्री आदित्यनाथ जी एक मठाधीश रहे हैं जो इससे ऊपर नहीं उठ पा रहे हैं। राज्य प्रशासन चलाना एक अलग प्रकार की जिम्मेदारी है जो पिछले 19 महीनों में एक बार भी प्रकट नहीं हुई। 
जिसका परिणाम होता है कि जब भी हमारे प्रदेश का कोई युवा सरकार से रोजगार के सम्बन्ध में अपनी मांगों को लेकर बात करने आता है तो उसके ऊपर लाठीचार्ज होता है और वाटर कैनन छोड़ा जाता है। 
उसी प्रकार कोई कर्मचारी या अधिकारी अपनी बात कहना चाहता है तो जनप्रतिनिधियों या जिम्मेदार लोगों द्वारा उसे प्रताड़ित किया जाता है ऐसे में हमारे प्रदेश का हर समाज अपने आपको पीड़ित, असहाय व ठगा हुआ महसूस कर रहा है और ऐसे नकार सरकार से निजात पाने के लिए छटपटा रहा है। 
कांग्रेस पार्टी ऐसे अक्षम और निरंकुश मुख्यमंत्री से त्यागपत्र की मांग करती है जो न तो अपने भोलीभाली निरीह जनता का और न ही अपने कर्तव्यनिष्ठ पुलिस के जवानों की हिफाजत करने में समक्ष हैं।
उन्होंने आगे कहा ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता। 
बुलन्दशहर में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह एवं सुमित कुमार की हत्या तथा लखनऊ में भाजपा कार्यकर्ता प्रत्युषमणि त्रिपाठी की हत्या की घटना को लेकर आज जीपीओ पर कांग्रेसजनों ने हाथों में कैंडिल लेकर मृतक आत्मा के प्रति संवेदना व्यक्त किया। 

कांग्रेस

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »