UPBIL/2018/70352

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की संध्या पर अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति एडवा द्वारा सभा का आयोजन किया गया

08 मार्च 2018ः अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की संध्या पर अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति एडवा के तत्वावधान में एडवा राज्य कार्यालय परिसर में एक सभा का आयोजन किया गया तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी प्रस्तुति की गई। 
एडवा जिला सचिव, सीमा राना, जिलाध्यक्ष सुमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष मधु गर्ग ने इस कार्यक्रम को सम्बोधित किया। अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के संघर्षों एवं कुरबानियों का इतिहास बताते हुए उन्होने कहा कि यह दिन महिला मजदूरों के संघर्षो एवं कुरबानियों का प्रतीक दिवस है; किन्तु आज बाजार इस ऐतिहासिक दिन को भी हथियानें का साजिश कर रहा है। 
इन्होंने आने वाले दिनों में गरीब महिलाओं को रोजी रोटी के अधिकारों पर लड़ने का आह्वाहन करते हुए नफरत की राजनीति से सावधान रहने को कहा जो गैर जरूरी मुद्दे उठाकर असली मुद्दो से ध्यान हटाने की साजिश रच रही है। 
सीमा राना ने कहा कि क्रान्ति महानायक लेनिन जिनकी पार्टी ने रूस में सबसे पहले महिलाओं को मत देने का अधिकार दिया था जो दुनिया में पहली बार महिलाओं को मिला। इस महान नायक लेनिन की मूर्ति को बी0जे0पी0 कार्यकताओं द्वारा त्रिपुरा में गिरा दिया गया जिसकी एडवा सख्त निन्दा करती है।
 इस अवसर पर औरत के तीन रूपों के शोषण को पीड़ित महिलाओं ने अपने वक्तव्यों द्वारा स्पष्ट किया जिसमें एक ‘मजदूर’ एक ‘औरत’ और एक ‘नागरिक’ के रूप में शोषण के पहलुओं पर प्रकाश डाला गया। 
नहीं चलेगा कोई बहाना हक है हमारा राशन पाना नाम से पोस्टर का विमोचन किया गया। इस संबंध में दिनांक 28 मार्च 2018 को राशन के सवाल पर राज्य स्तरीय प्रदर्शन होगा। 
कार्यक्रम में घरेलू कामगार महिलाएं और कामकाजी महिलाओं ने बड़ी संख्या में हिस्सेदारी की। मुख्य रूप से शिवानी कुकरेटी, स्मिता पाण्डे, मेहरून्निसा, मोहसिना, सुशीला, रूपरानी आदि महिलाओं ने भागीदारी की।


Share this

Related Posts

Previous
Next Post »