UPBIL04881

क्या उपचुनाव में सपा उभर कर सामने आ रही है

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी  ने कहा है कि गोरखपुर और फूलपुर (इलाहाबाद) में हो रहे संसदीय उपचुनाव से सत्तारूढ़ भाजपा के लिए खतरे की घंटी बज गई है। जनता में गहरा आक्रोश है जो अब गलीचैराहों तक फूट रहा है। दूसरी तरफ श्री अखिलेश यादव के प्रति लोगों का आकर्षण 1975 में जेपी आंदोलन की याद दिलाता है। ठीक वैसे ही स्वतः स्फूर्त जन सैलाब अखिलेश जी को देखने, सुनने को उमड़ पड़ता है। 
       मतदाताओं के रूझान को देखते हुए गोरखपुर और फूलपुर में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों क्रमशः इं0 प्रवीण कुमार निषाद और नागेन्द्र प्रताप सिंह पटेल के पक्ष में अब अन्य दल भी सक्रिय हैं। बसपा के झंडे समाजवादीपार्टी के झंडो के साथ लहरा रहे हैं। एनसीपी, रालोद, पीस पार्टी, निषाद पार्टी भाकपा, माकपा, प्रगतिशील मानव समाज पार्टी आदि तमाम दलों का समर्थन समाजवादी पार्टी को मिल रहा है जिससे भाजपा में बौखलाहट है। यहबौखलाहट भाजपा नेताओं के आचरण और भाषणों में दिखाई देने लगी है।
       7 मार्च 2018 को गोरखपुर और 9 मार्च 2018 को इलाहाबाद में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने चुनावी जनसभाओं को सम्बोधित किया। उन्होंने भाजपा के अनर्गल प्रलापों कासटीक जवाब दिया। इसके बाद तो पूरे गोरखपुर क्षेत्र की फिजां ही बदल गई। यदि यह कहा जाए कि अब मतदाताओं का झुकाव समाजवादी पार्टी के पक्ष में इकतरफा हो गया है तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। 
इलाहाबाद में आज तक सड़कों पर इतना बड़ा हुजूम किसी नेता के समर्थन में नहीं उतरा जितना 9 मार्च को जन सैलाब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव के जनसमर्थन में दिखाई दिया। बीस किलोमीटर केरास्ते में लाखो लोगों की भागीदारी थी जिसमें हजारों नौजवान बाइक पर काफिले में शामिल थे। महिलाएं बच्चे छतों से अखिलेश जी का अभिवादन कर रहे थे। 
        इलाहाबाद के प्रबुद्ध नागरिकों का मानना है कि अगर श्री अखिलेश यादव दोबारा मुख्यमंत्री बनकर भी आते तो इतना जन सैलाब उमड़ नही सकता था जितना आज लाखों की संख्या में अखिलेश जी के इंतजार में थे।समाजवादी सरकार द्वारा किए गये विकास कार्यों और भाजपा सरकार के विकास विरोधी चरित्र से पूरी तरह परिचित हो गयी है। प्रयाग में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र, प्रोफेसर, अधिवक्ता सहित व्यापारियों से लेकर गांवोंसे पैदल चलकर आये किसानों ने समाजवादी पार्टी में अपना विश्वास प्रकट किया। छात्रों-नौजवानों, किसानों-व्यापारियों, महिलाओं सहित समाज के सभी वर्गों में जैसा उत्साह दिखा वह यह प्रमाणित करता है कि समाजवादीपार्टी पर ही जनता को भरोसा है।
        इलाहाबाद में पूर्व मुख्यमंत्री श्री यादव की लोकप्रियता का आलम यह था कि समाज के कमजोर तबके के लोग सड़कों पर दोनों तरफ अपने परम्परागत तरीके से उनका स्वागत -अभिनंदन कर रहे थे। दलित समाज के कईसंगठन, सागर पेशा, सोनकर समाज, हेला समाज, पासी समाज ढ़ोल नगाड़े के साथ समाजवादी पार्टी के पक्ष में वोट मांग रहे थे। महिलायें अपने बच्चें के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव की एक झलक पाने को उत्सुकथी।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »