UPBIL/2018/70352

उत्तर प्रदेश जेलों की दुर्दशा पर कांग्रेस का योगी पर निशाना


जीशान हैदर  उत्तर प्रदेश कांग्रेस  प्रवक्ता 
उत्तर प्रदेश की जेलों में निरूद्ध सैंकड़ों कैदियों में एच.आई.वी. संक्रमण के पाये जाने एवं एचआईवी पीड़ितों की संख्या में हो रही वृद्धि जेलांे की दुर्दशा और उसकी दयनीय स्थिति का जीता-जागता सबूत है। जेल में बन्द कैदियों में एचआईवी जैसी गंभीर बीमारी का पाया जाना प्रदेश की योगी सरकार के लिए बहुत ही चिन्ताजनक एवं शर्मनाक है। 
उ0प्र0 कंाग्रेस कमेटी के प्रवक्ता जीशान हैदर ने आज जारी बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश में जेलों की हालत इस कदर खराब है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी करना पड़ा है। 
एक तरफ जहां उत्तर प्रदेश की जेलों में गधों को बन्द करने का प्रकरण सामने आया वहीं दूसरी तरफ उन्नाव में एक झोला छाप डाक्टर ने चालीस से अधिक लोगों को एच.आई.वी. के संक्रमित इंजेक्शन लगाकर जीवन पर संकट खड़ा कर दिया है और अब प्रदेश के विभिन्न जनपदों के 70 जेलों में अब तक लगभग 250 से अधिक कैदियों के एचआईवी संक्रमित होने का मामला सामने आने पर एक बार फिर प्रदेश की जेलों की सुरक्षा एवं व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह खड़ा हो गया है। 
प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार जहां प्रदेश की जेलों के आधुनिकीकरण, सुरक्षात्मक व्यवस्था, स्वास्थ्य व्यवस्था के बेहतरी के दावे करती है वहीं जेलों में कैदियों की इस दुर्दशा के लिए सीधे तौर पर प्रदेश सरकार, जेल विभाग एवं स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह जिम्मेदार है। प्रदेश की योगी सरकार द्वारा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के बड़े-बड़े दावे की पोल प्रदेश की सुरक्षित मानी जाने वाली जेलों में बन्द कैदियों में एचआईवी जैसी गंभीर बीमारियों के पाये जाने से खुल गयी है।
श्री हैदर ने कहा कि इससे अधिक शर्मनाक क्या हो सकता है कि प्रदेश सरकार की नींद मानवाधिकार आयोग की नोटिस जारी होने के बाद ही खुलती है चाहे वह पुलिस द्वारा फर्जी इन्काउन्टर हो अथवा अब जेलों में एचआईवी संक्रमित कैदियों के पाये जाने का मामला हो। 
प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार बताये कि अब तक जेलों में बन्द कैदियों के साथ हुए इस गंभीर प्रकरण में क्या कार्यवाही की गयी? उन्होने मांग की है कि प्रदेश सरकार एचआईवी के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए जल्द से जल्द कारगर कदम उठाये।


Share this

Related Posts

Previous
Next Post »