UPBIL04881

बारिश की वजह से अब तक 12 लोगों की मौत; चेन्नई का पूर्वोत्तर मानसून फिर क़हर ढा रहा

अजहर खान ; प्रेसमैन चेन्नई 
चेन्नई में बारिश एक बार फिर क़हर ढा रही है. ख़बर के मुताबिक़ 27 अक्टूबर को शहर में आए पूर्वोत्तर मानसून की आठ दिन की बारिश की वजह से अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है. रिपोर्ट में बताया गया कि अब तक कुल 552.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा चुकी है. यह हर साल बारिश के सीज़न में होने वाली कुल 750 मिलीमीटर बारिश का 74 प्रतिशत है. पूर्वोत्तर मानसून की वजह से होने वाली यह बारिश इस इलाके में 1 अक्टूबर से 15 दिसंबर तक होती है.
गुरुवार को हुई भारी बारिश के बाद शुक्रवार सुबह बारिश नहीं होने से थोड़ी राहत मिली थी, लेकिन शाम को फिर तेज़ बारिश शुरू हो गई. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ तेज बारिश ने चेन्नई के मयलापुर, फोरशोर एस्टेट और तांब्रम, क्रोमपेट और पल्लवरम के दक्षिणी इलाक़ों को बुरी तरह प्रभावित किया है. ट्रैफ़िक भी लगातार दो दिन जाम रहा. चेन्नई के ज़िला कलेक्टर ने शनिवार को स्कूलों को बंद कर दिये है. ज़्यादा बुरी ख़बर यह है कि मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में तमिलनाडु के उत्तर तटीय क्षेत्रों में और भारी बारिश होने की आशंका जताई है. साथ ही चेन्नई और उसके उपनगरों में जोर हवाओं की आंधी आने का पूर्वानुमान भी लगाया गया है.
इधर केन्द्र सरकार गुजरात व हिमांचल प्रदेश के विधान सभा चुनाव मे मग्न है, उधर, बारिश से होने वाली मुसीबतों से निपटने मे सरकारी नकामी को लेकर मुख्यमंत्री के पलानीसामी सरकार को लोगों का ग़ुस्सा झेलना पड़ रहा है. हालांकि मुख्यमंत्री कुछ और ही दलील देते नज़र आए. जलभराव को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व की जयललिता सरकार ने साल 2015 में निचले इलाक़ों से पानी निकालने की जो योजना परिकल्पित की थी उसकी वजह से आज पानी जमा नहीं हुआ है. मुख्यमंत्री ने उप-मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कुछ इलाकों का दौरा किया है. बारिश के चलते राहत शिविरों में गए लोगों के लिए खाने के पैकेट, कपड़े, चटाई और चादर बांटे गए हैं.

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »