UPBIL/2018/70352

मान्यवर कांशी राम जी से जुड़ी यादे

 बहुजन कलम् से

 बहुजन नायक समाज सुधारक राजनीतिज्ञ व् बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक मान्यवर कांशी राम जी से मेरी पहली मुलाकात फरवरी 1988 में लोक निर्माण बिभाग बाराबंकी के अतिथि गृह में हुई थी । जब वह डी ए बी कालेज में बसपा की जनसभा को सम्बोधित करने के लिए आये थे।
जहाँ तक मुझे याद है कि मान्यवार कांशीराम जी प्रातः 10 बजे ट्रेन से बाराबंकी रेलवे स्टेशन पर आये थे और उन्हें एम्बेसडर कार से अतिथि गृह लाया गया था ।जहाँ लगभग तीन घण्टे बिश्राम करने के बाद सभा मंच पर गये थे।

इससे पहले मुझे उनके साथ जलपान करने का मौका मिला । इस दौरान तत्कालीन बसपा जिला अध्यक्ष सन्तदीन पटेल दादा सरदार बेन्त सिंह , नकी हैदर के अतिरिक्त बसपा के युवा साथी बिजय गौतम, सुरेश चन्द्र गौतम विशेष रूप से मौजूद थे । 
मान्यवार हिन्दी मिक्स पंजाबी में अपने बिचार साझा कर रहे थे । उनमें बहुजन समाज को जगाने की ललक झलक रही थी ।
1989 में मान्यवर ने समाज को जगाने को लेकर प्रचार यात्रा शुरू की ।इस यात्रा के दौरान उन्होंने ने सिंचाई विभाग के अतिथि गृह में रात्रि विश्राम किया । बतौर पत्रकार मुझे उनके साथ सफ़दर गंज तक जाने का मौका मिला । सफ़दर गंज चौराहे पर नेता श्याम लाल यादव जी द्वारा सभा आयोजित की गयी थी । सभा सम्बोधित करने के बाद मान्यवर फैज़ाबाद के लिए रवाना हो गए थे । मै टैम्पो से बाराबंकी वापस चला आया ।
इस दौरान जिन मुद्दों पर मान्यवर बेबाकी से बोल रहे थे वह उस समय मेरी समझ से परे थे लेकिन आगे चलकर उनके बिचार समाज को जोड़ने में मील के पत्थर साबित हुए। उनकी सोच और बिचार आज भी दलित समाज को जगाने में सार्थक साबित हो रहे हैं।
9 अक्टूबर 2006 को मान्यवर कांशी राम जी अपने मिशन को अधूरा छोड़ कर हम सब के बीच नही रहे ।
मै आप मित्रों की ओर से मान्यवर कांशी राम जी का शत् शत् नमन बन्दन करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ ।हरि प्रसाद वर्मा, पत्रकार 

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »