UPBIL/2018/70352

भारत में मनाली से लेह तक नया मार्ग जल्द

 

मनाली से लेह तक भारत एक रोड का निर्माण करने जा रहा है। यह ऊॅची पहाड़ियों के केन्द्र शासित प्रान्त और भारत के अन्य राज्यों के मध्य मार्ग संपर्क स्थापित करेगा। इससे दुश्मन देश, पाकिस्तान और चीन, भारत की रक्षा सामग्री और सेनाओं के अवागमन पर नजर नही रख पायेगी।

भारत उत्तर के सब-सेक्टर दौलत बेग ओल्दी एवं अन्य क्षेत्र जो सामरिक रूप से महत्व रखता है पर दुनिया की सबसे ऊॅची परिवहन चालन की खारदुंगला पास सड़क वैकल्पिक संपर्क देने पर भी निर्माण कार्य जारी किये हुए है।

एएनआई के अनुसार, कार्यदायी संस्थाएं मनाली से लेह तक नीमू-पदम-दार्चा अक्ष के बीच होकर वैकल्पिक मार्ग देने पर काम कर रही है जो मार्ग यात्रा को कम समय मे तय करने एवं लम्बे रास्ते जैसे श्रीनगर से जोजीला पास अन्य रास्ते मनाली से लेह (सार्चू होकर) वर्तमान मार्ग से अनावश्यक  समय नष्ट होता है बचत होगी।

यह यत्रा 3 से 4 घंटे के समय की बचत करेगा और भरतीय सेना एवं सामग्री के अवागमन पर दुश्मन देश की नजर से भी बचायेगी।

जोजीला पास से निकलने वाला मार्ग यात्रियो एवं सामान्य सामग्रियों के आवागमन प्रयोग होता रहा जो ड्रास-कारगिल से गुजरता है। 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तान ने इस मार्ग पर हमले किये और इस मार्ग पर करता रहा है।


 

चश्मा लगाने वाले यह भी जाने !


चश्मे को लेकर पचासों तरह के भ्रम और हजारों सलाहें चलती हैं. मैं जानता हूं. मुझे दी गई हैं. लानतें भी, सलाहें भी. बचपन में चाहे जो मुझे चश्मा लगाए देख लेता, ढेरों सलाहें दे डालता. लानतें कि तेरे को इतनी कम उम्र में चश्मा लग गया क्योंकि तू फालतू ही इतना पढ़ाकू है, सब्जियां नहीं खाता है. जरूर ही हस्तमैथुन आदि ऐसी गलत आदतें रही होंगी कि शरीर कमजोर होने के साथ ही आंखें भी वैसी ही हो गईं वगैरह-वगैरह. मैं सातवीं या आठवीं कक्षा में था, तब से ही चश्मा लगा रहा हूं. अभी तो ऐसा लगता है कि मैं चश्मा लगाकर ही पैदा हुआ होऊंगा. पूरा जीवन चश्मे के बारे में ऊलजुलूल बातें सुनते गुजारी हैं मैंने.
चश्मा हटानेके हजारों टोटके अभी-भी गांव-कस्बों में बताए जाते हैं. मऊरानीपुर में मेरी दादी और अन्य रिश्तेदार दुखी थे कि ज्ञानू को इत्ती कम उम्र में चश्मा लग गया है. उन्होंने सामने की दुकान पर बैठने वाले गोपी का उदाहरण दिया जिनकाचश्मा हट गयाथा. दादी के कहने पर मैं चश्मा हटने का रहस्य जानने के लिए गोपी से मिला. मैंने उनसे पूछा कि चश्मा तो हट गया पर दिखता ठीक-ठाक है कि नहीं? गोपी ने बताया किचश्मा तो हट गया हैपरंतु ठीक से दिखता नहीं है! तो आज मैं चश्मे और नजर को लेकर ऐसे ही कुछ सही, कुछ ऊलजुलूल प्रश्नों के उत्तर देने की कोशिश करूंगा. संभावना है कि ये प्रश्न आपके मन में भी उठते हों.
क्या लेटकर पढ़नेज्यादा पढ़नेहरी सब्जियां खाने या अन्य कमजोरी के कारण ही नजर का चश्मा लगता है?
नजर का चश्मा मायोपिया, हाइपरमेट्रोपिया, प्रेसबायोपिया आदि नेत्र कारणों से लगता है जो प्राय: अनुवंशिक कारणों से होते हैं. आंख की बनावट कुछ ऐसी हो जाती है कि उसके कारण रेटिना पर साफ तस्वीर नहीं बनती. चश्मे का लेंसफोकल लेंथको ठीक करके सही तस्वीर बनाने का काम करता है. लेटने, बहुत पढ़ने आदि से आंख की बनावट पर कोई असर नहीं होता. फिर भी लेटकर पढ़ना, कम प्रकाश में पढ़नाविज़न हाईजीनके विरूद्ध तो है ही.
एक चीज कहलाती हैविजन हाईजीन’. चश्मा लगे, लगे पर आंखों में दर्द, आंखों का थक जाना, आंखों का सूखा लगना या पानी-सा आना जैसे नेत्र तनाव के लक्षण तो पढ़ने-लिखने के गलत तरीकों से होते ही हैं. पुस्तक या कंप्यूटर-स्क्रीन आंखों के लेवल पर हो. अच्छी रोशनी हो. कमरे में बहुत तीखी, हीकंट्रास्टवाली रोशनी हो, हर आधे घंटे, पौने घंटे पर कुछ मिनट के लिए कंप्यूटर या किताब को छोड़ दें. चश्मा लगने, लगने पर इन चीजों का कोई असर हो पर आंखे थकेंगी नहीं, यह तय है. हरी सब्जियां भी इसी तरह मदद करती हैं. अनीमिया हो तो उसकी दवाइयां लें. पर इनसेचश्मा छूट जाएगाइसका भ्रम पालें.
यदि छुटपन से ही चश्मा लग गया तो आगे भी नंबर बढ़ता ही जाएगा. इसीलिए क्या छोटे बच्चों को चश्मा नहीं लगवाना चाहिए?
यह सोच ही गलत है. लेकिन अगर ऐसा करेंगे तो संभव है कि बाद में चश्मा भी काम आए. अत: ऐसी गलती कभी करें. बच्चे को हल्का नंबर दिया गया है तो भी जरूर लगवाएं. ऐसा नहीं करेंगे तो बाद में चश्मे लायक आंखें भी नहीं बचेंगी.
कॉन्टेक्ट लेंस बेहतर हैं कि चश्मा लगाना?
चश्मे की अपनी सीमाएं तथा परेशानियां हैं. आदमीचश्मुद्दीनलगे तब भी चल जाता है बल्कि चश्मा लग जाने से कई बार आदमी खामख्वाह ही बुद्धिजीवी तथा विद्वान नजर आने लगता है. हां, लड़कियों को लगता है कि चश्मे से उनकी खूबसूरती तथा लुक पर गलत असर पड़ता है. फिर चश्मे की संभाल एक मसला है. इसके अलावा चश्मा आपकी पूरी दृष्टि को समेट नहीं पाता. आपकापेरिफेरल विजनया कह लें कि परिधि की दृष्टि धुंधली ही बनी रहती है. कॉन्टेक्ट लेंस इन सबसे मुक्ति दिलाते हैं. वे पूरी दृष्टि साफ करते हैं क्योंकि वे आंख (की कॉर्निया) पर ही धरे जाते हैं.
कॉन्टेक्ट लेंस खूबसूरती या दृष्टि के व्यापक पैनेपन के हिसाब से बेहद कारगर हैं. फिर भी चश्मे ही ज्यादा चलते हैं तो क्यों? क्योंकि कॉन्टेक्ट लेंस लगाना बहुत संभाल का काम है. उन्हें बहुत साफ रखना होता है. कई लोग उन्हें साधारण पानी से धो डालते हैं जो ठीक नहीं. लेंस को बार-बार ठीक से साफ करो या ठीक से बरतो तो कॉर्निया पर छाले हो सकते हैं. और ये अंधा भी बना सकते हैं. यही वजह है कि बच्चे या लापरवाह किस्म के बड़े लोगों के लिए कॉन्टेक्ट लेंस लगा पाना कठिन काम है और खतरनाक भी.
लेसिक सर्जरी’ से चश्मा हट सकता है ?
 सौ प्रतिशत तो नहीं, लेकिन हट सकता है. परंतु लेसिक की भी अपनी सीमाएं होती हैं. इस ऑपरेशन में आपकी कॉर्निया की सतह से झिल्ली निकालकर (फ्लैप बनाकर) नीचे की बची सतह को लेजर द्वारा सर्जरी करके कॉर्निया के आकार को (पूर्वनिर्धारित नापतौल द्वारा) ऐसा कर देते हैं कि उससे गुजरने वाली प्रकाश किरणें फिर से सही जगह पड़ें. और तस्वीर साफ बनने लगे. यहां तक तो सब बड़ा बढ़िया प्रतीत होता है परंतु ऐसे ऑपरेशन के संभावित खतरे भी होते ही हैं. बिगड़ जाए, इंफेक्शन हो जाए तो आंख ही चली जाए, कॉर्निया को पतला करने और उसके आकार को बदलने में भी बिगाड़ की आशंका तो रहती ही है. परंतु बहुत हाई पावर के मायोपिक लेंस लगाने वालों के लिए यह सचमुच उपयोगी है. नंबर पूरा ठीक हो सकता है या काफी कम तो हो ही सकता है. फिर हर आंख लेसिक लायक नहीं होती. इसलिए डॉक्टर से पूछताछ कर ही लेसिक कराएं.